शुक्रवार, 10 अप्रैल 2009

नारीवाद का मतलब

ऑरकुट पर नारीवाद से सम्बंधित कम्युनिटी ढूँढते हुए मैंने नारीवाद-विरोधी कम्युनिटी भी देखीं .कुछ ऐसी भी हैं जिनका कहना है की वे feminists से नफरत करते हैं पर humanists से प्यार करते हैं .वैसे ,इस democratic देश में सभी को अपनी पसंद और विचार जाहिर करने का अधिकार है ,पर मैंने देखा है कि जो लोग जिसके बारे में नहीं जानते ,वे ही सबसे अधिक विरोध करते हैं .नारीवाद की ना कभी पुरुषों से दुश्मनी रही है और ना ही मानववाद से . तो जब कोई यह कह रहा होता है कि वह नारीवाद को इसलिए पसंद नहीं करता कि वह पुरुषों का विरोधी है ,तो वह अपने इस विषय में कम ज्ञान को दिखा रहा होता है .नारीवाद एक ऐसा सिद्धांत है जो समाज के उस पक्ष को प्रस्तुत करता है ,जहाँ सदियों से औरत को दूसरे स्थान पर रखा गया .अब लोग यह भी कह सकते हैं की हमारे देश में कभी नारी की पूजा होती थी ,यह बात भी पूरी तरह सच नहीं है ,इसके विषय में भी किसी को अच्छी तरह पढ़ के ही बोलना चाहिए .anti-feminism आज-कल उसी तरह fashion हो गया है ,जैसे किसी समय feminism का था .पर किसी भी विचार का समर्थन या विरोध करते समय कम से कम उसका कुछ ज्ञान तो होना ही चाहिए और मेरे विचार से एक बार नारीवाद को जान लेने के बाद कोई उसका विरोध नहीं करेगा , सहमत भले ही ना हो .

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी बात स‌े शत-प्रतिशत स‌हमत हूं। (कृपया वर्ड वेरीफिकेशन वाला आप्शन हटा लें टिप्पणी करने में दिक्कत होती है)

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी ब्लॉग की दुनिया में आपका सादर स्वागत है....

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिंदी ब्लॉग की दुनिया में आपका सादर स्वागत है....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. Mukti ji,
    bahut sahee likha hai apne...hindi blog jagat men apka svagat hai.
    Poonam

    उत्तर देंहटाएं
  6. जहॉ वाद है ही विवाद है
    शुभ कामना

    उत्तर देंहटाएं
  7. है विवाद हर वाद में रिश्ता है प्राचीन।
    अपने वाद के पक्ष में देते तर्क नवीन।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. naarivad apne aarambhik kaal me nischit taur par ek krantikari vichar tha. sadiyon ke shoshan aur doyam darze ke khilaf ek sashakt vidroh.
    kalantar me iski tamam shakhaye-prashakhayen viksit hui jinme kuch to prtigami aur fashionable bhi thi.

    darasal, stree ki mukti ka saval samaj ke poonjivad se mukti se juda hai aur iska hissa bane bina adhura hai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. woman has travelled away from feminism to woman empowerment and that is what is prevelant today

    naari sashktikaran naarivad sae kahin aagey ki baat haen aur log naarivaad kae virodh par hi atak gaye haen !!!!!1

    achcha prashn kiya haen aapne mukti

    उत्तर देंहटाएं
  10. बिल्कुल सही बात कही है आपने। मैं आपसे सहमत हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सवाल नारीवाद के समर्थन या विरोध का नहीं है। सवाल तो ये होना चाहिए कि कोई वाद ही क्यों? क्या पुरुष वाद की आवष्यकता महसूस हुई? क्या आज नारी का जो विकास है वह नारीवाद के चलते ही हुआ है? आजकल महिलाओं को किसी न किसी रूप में पुरुषों के विरुद्ध खड़ा करना ही नारीवाद रह गया है। यह कदापि सही नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आप सभी का मेरे आलेख पर टिप्पणी करने के लिए धन्यवाद ! दरअसल मैं ऐसे ऐसी ही बहस की उम्मीद कर रही थी . आगे मैं नारीवाद के योगदान और महिला सशक्तिकरण के विषय पर भी चर्चा करुँगी .

    उत्तर देंहटाएं

बहस चलती रहे, बात निकलती रहे...