रविवार, 8 नवंबर 2009

संस्कृत नाट्‌यशास्त्रों में नायक-भेद: कुछ प्रश्न

संस्कृत काव्यशात्रों तथा नाट्‌यशास्त्रों में नायिका-भेद और नायक-भेदों का वर्णन श्रृंगार-रस के परिप्रेक्ष्य में हुआ है. नायिका-भेद के विषय में अरविन्द जी अपने ब्लॉग पर लिख रहे हैं. मैं यहाँ नायक-भेदों का उल्लेख मात्र करके कुछ प्रश्न उठाना चाहती हूँ. ये प्रश्न मुख्यतः उनलोगों से है जो यह कहते हैं कि मुस्लिम आक्रमणकारियों के आने से पूर्व भारत में नारी की स्थिति अपेक्षाकृत अच्छी थी.
    दशरूपक संस्कृत नाट्‍यशास्त्रों में एक सम्माननीय स्थान रखता है. इसके अनुसार नायक के चार भेद होते हैं- धीरललित, धीरशान्त, धीरोदात्त तथा धीरोद्धत. अधिक विस्तार में न जाते हुये मैं इतना बताना चाहुँगी कि इनमें से प्रथम मृदु स्वभाव वाला और संगीतप्रेमी क्षत्रिय राजा होता है. दूसरा मुख्यतः सामान्य गुणयुक्त ब्राह्मण अथवा वणिक होता है. तीसरा गम्भीर, क्षमावान, निरहंकारी वीर और दृढ़व्रत क्षत्रिय राजा होता है तथा चौथा अहंकारी, आत्मप्रशंसक और ईर्ष्यालु प्रकार का होता है. ध्यान देने योग्य बात है कि नायक के ये चार प्रकार चार विभिन्न प्रकृति के पुरुषों को प्रदर्शित करते हैं, जबकि नायिकाओं के भेद मुख्यतः श्रृंगार-रस के प्रसंग में उनके नायक से सम्बन्ध के आधार पर किये गये हैं. उदाहरण के लिये जिस नायिका का पति उसके पास हो वह प्रसन्न रहती है और स्वाधीनपतिका कहलाती है. जिस नायिका का पति विदेश में हो वह प्रोषितप्रिया कही जाती है. जिसके पति या प्रेमी ने उससे छल करके किसी और से प्रेम किया हो वह खंडिता कहलाती है आदि.
   अब यहाँ से मैं अपने प्रश्न और आशंकाएँ प्रारम्भ करती हूँ. नायक-भेद समाप्त करने के बाद आचार्य धनंजय नायक के पुरुषत्वयुक्त आठ सात्त्विक गुणों उल्लेख करते हैं, "शोभा विलासो माधुर्यं गाम्भीर्यं स्थैर्यंतेजसी, ललितौदार्यमित्यष्टौ सात्त्विकाः पौरुषा गुणा." अर्थात्‌ शोभा, विलास, माधुर्य, गाम्भीरता, धैर्य, तेज, ललित तथा उदारता. सोचने की बात यह है कि दशरूपककार ने ये जो आठ गुण बताये हैं क्या ये गुण स्त्रियों में नहीं हो सकते जो इन्हें पुरुषयुक्त कहा है और मात्र नायकों में ही आवश्यक बताया है. इस बात को थोड़ा विस्तार से देखते हैं. "शोभा" नामक गुण की व्याख्या करते हुये धनंजय कहते हैं, "शोभा नामक सात्त्विक गुण वहाँ होता है, जहाँ नायक में शौर्य तथा दक्षता पाई जाती हो तथा नीच के प्रति घृणा एवं अपने से अधिक के प्रति स्पर्धा पाई जाती हो." अब प्रश्न यह है कि इस गुण में ऐसा क्या है जो एक स्त्री में नहीं हो सकता. उसके अन्दर उपर्युक्त सभी गुण उसी प्रकार पाये जा सकते हैं, जिस प्रकार किसी पुरुष में. गुणों का तो कोई लिंग नहीं होता. वे तो सभी में समान होते हैं, फिर नायक के गुणों और नायिका के गुणों में इतना भेद क्यों? यदि आप यह कहें कि तब की बात और थी और नायक को बाहर निकलना पड़ता था, युद्ध लड़ने पड़ते थे और स्त्रियाँ घर में रहती थीं. तो फिर मान लीजिये कि स्त्रियाँ मात्र पुरुषों के मनोरंजन का साधन थीं. और जो लोग यह कहते हैं कि प्राचीन भारत में नारी की स्त्री उच्च थी वे मात्र स्वयं को और दूसरों को भुलावा देते हैं. यदि आप यह कहते हैं कि यह तो साहित्य की बातें हैं, वास्तविक समाज से इसका कुछ लेना-देना नहीं है, तो आपको अन्य साहित्यों में भारत की समृद्धि आदि के बारे में कही गयी बातें भी गलत माननी होंगी.
  सच यही है कि प्राचीनकाल से लेकर अब तक पुरुष समाज, राजनीति, कला और साहित्य के केन्द्र में रहा है और नारी परिधि पर. यही कारण है कि प्राचीनकाल में नायक-भेद गुणों के आधार पर किये गये और नायिका-भेद नायक से उसके प्रेम-सम्बन्धों के आधार पर और आज भी हिन्दी फिल्मों में नायक केन्द्र में होता है और अधिक पारिश्रमिक पाता है और नायिका मात्र उसकी प्रेमिका बनकर रह जाती है.

3 टिप्‍पणियां:

  1. मुक्ति जी !
    आपकी आपत्ति जायज है कि अब तक का विवेचन (ज्ञान- विज्ञान के विविध
    शाखाओं में ) पुरुष-सापेक्ष रहा है | गुणों को भी लिंग-विधान के तहत निर्धारित
    किया गया | अब सवाल है -'' मुस्लिम आक्रमणकारियों के आने से पूर्व भारत
    में नारी की स्थिति अपेक्षाकृत अच्छी थी.'' का | मुस्लिम आक्रमणकारियों के
    आने से पूर्व के भारत में एक बहुत बड़ी कालावधि है , और इसी कालावधि में
    पूर्व-वदिक युग भी आता है ,जहाँ स्त्रियाँ सभा,विदथ आदि में भाग लेतीं थीं और
    युद्धों में भी जाती थीं | वहां स्त्रियों को अधिकार प्राप्त थे ,यह ऐतिहसिक सच है |
    अतः आपसे सहमति आंशिक ही बनती है |
    एक अच्छा और विचारोत्तक लेख के लिए बधाई .........

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुक्ति जी आप विषय की अधिकारी विद्वान् हैं -आप से असहमति का तो कोई बिंदु ही नहीं है ! स्पष्ट है , इंगित साहित्य के सृजन में पुरुषों का ही वर्चस्व रहा तो जाहिर है एकांगी दृष्टिकोण ही उभरा है -मगर क्या हम इन बातों से पृथक केवल मनुष्य की सौन्दर्यानुभूति की विशिष्ट क्षमता का एक समाकलन नहीं कर सकते ! हम कल्पना करें ऐसे समाज की जहाँ नारी का वर्चस्व होता तो क्या वहां नर नारी नख शिख वर्णन का अभाव होता ! मुझे लगता है की इस मानवीय अनुभूति को हम लिंग बोध के नजरिये से देखेगें तो एक उत्कृष्ट मानवीय अभिव्यक्ति के साथ न्याय नहीं कर पायेगें !
    आईये आगे बढ़ें ! ध्यान रहे आज हम समतल पर चलें !
    सस्नेह ,

    उत्तर देंहटाएं
  3. Aap ki yah post bahut achchhee lagi.
    Abhaar mere prashn ka uttar dene ke liye.
    Aap se sikhne ko mila iske liye dil se dhnywaad.

    उत्तर देंहटाएं

बहस चलती रहे, बात निकलती रहे...